Monthly Archives: जून 2011

——–प्रकृति गीत——-

शाम ढल चुकी है अब होगा रात का अँधेरा कल जब हम मिलेंगे तब होगा नया सवेरा  ! मौसम ज्यों बदलतें हैं गर तुम भी यों ही बदलो तो होगा न मोह का डेरा फिर होगा न तेरा मेरा ! … पढना जारी रखे

गीत में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे

रचनात्मक लेखकों का इस ब्लॉग पर स्वागत है–

रचनात्मक लेखक जो साहित्य की किसी भी विधा में लिखतें हों ,दर्शन,आध्यात्मिक एवम सांस्कृतिक लेखकों का इस ब्लॉग पर मेहमान ब्लोग्गर के रुप में स्वागत है !

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे