शायरी–मेरी कलम से!–आज का शेर-

अब अपनी न कोई आरज़ू और न तसब्बुर रहा ‘रमेश’
हम इसलिए खुश हैं कि तुम्हारी आरज़ू तुम्हारे तसब्बुर के लिए जीते हैं !

बड़े होकर भी तुममे बच्चे की सी मासूमियत रहे
तब समझना कि तुमको मोहब्बते खुदा हासिल है !

                                                                              –  अश्विनी रमेश

Advertisements
आज का शेर-५/५/११ में प्रकाशित किया गया | 1 टिप्पणी

शायरी–मेरी कलम से!–आज का शेर-

मोहबत में जब दिलो से रुह के फासले तय नहीं होते
तो दिल जब टूटते हैं तो कोई आवाज़ नहीं होती!

कुछ गुल ऐसें हैं जिनको  खिजां आ गयी महकने से पहले
बस तुम एक बार चूम लो इनको बिखरने से पहले!

                                                                               –      अश्विनी रमेश

आज का शेर में प्रकाशित किया गया | 2 टिप्पणियाँ

शायरी मेरी कलम से…आज का शेर

आज का शेर—

                  दोस्तो,
                            कहते हैं कि गज़ल चार शेरों से कम नहीं होती! लेकिन मैं आज तीन शेर आपकी नज़र कर रहा हूँ अब आप इसे जो भी कहें, वेसे मेरा वायदा तो रोज कम से कम एक शेर का है! चलो इसे आधी नज्म और आधी गज़ल कह दें तो भी चलेगा–
अर्ज किया है कि–

गर हम ना होते तो ये सिलसिले ना होते
गर होते भी तो ये फिर इस तरह ना होते

हम इतना भी नहीं है कि तूझे आसमां दिखाएं
ये भी तो ना भूलो कि तुम ज़मीं के हो

बस ये अहसास कर लो कि तुम अपनी ज़मीं के हो
बस ये अहसास कर लो कि तुम अपनी  ज़मीं के हो
                                                                                  —अश्विनी रमेश

आज का शेर में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे

शायरी–मेरी कलम से!

शायरी मेरी कलम से–
दोस्तो आज से में अपने ब्लॉग पर इस नयी ब्लॉग-पोस्ट को शुरू करने जा रहा हूँ,आशा है की उर्दू शायरी का शौक रखने वालों को यह पोस्ट पसंद आएगी! नहीं तो फिर में और निशात लासानी तो हैं हीं जिनको इस फन का खूब शौक है ! इसके तहत मैं रोज कम से कम एक शेर आपकी नज़र-“आज का शेर टाइटल से रखूँगा! यदि मुनासिब हुआ तो अपनी ही जुबाँ से विडियो भी लोड करूँगा!
तो शेर अर्ज है–
आज का शेर-

माना के मोहबत जन्नत है यारब
फिर ये हकीकत होते होते ख्वाब क्यों होती है!

आज का शेर में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे

Seasons would come and go but you would always find me

Seasons would come
and..
seasons would go
but you would
find me in all seasons
flowing with
fresh river waters
perrenial
In fragrance of
spring-buds of
to be flowering trees
Alogwith widespread
green fields,
of farmers
Dancing with
melodious chorus of
chirping birds
In the moonlit night of
full moonday
Along grassy pastures of
free wandering shepherds,nomads
With free skyflier birds
Top hill of
snowclad mountain peaks
aha..! my thrilling nature
let me flow
as naturally as
you flow in me.

flowin along nature में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे

अपने खूंटे को तलाशती गाए -कविता-अश्विनी रमेश

माँ के
बनाये खूंटे की
वह छान्व्बरी गाए
जो रोज सुबह
अपने खूंटे से
खुलते ही
जंगल की आज़ादी भरी
खुली आबोहवा में
चरने और मस्ती करने के बाद
शाम को
खूंटे के नजदीक पहुँचते ही
माँ को देखकर
ज़ोर ज़ोर से
राढ़ाया
 करती थी
फिर माँ को
पैरों से घुटने तक
सूंघकर
अपने का अहसास करके
अपनी गर्दन कृतज्ञता में
झुका दिया करती थी
जो अपनों के संसार को पाकर
कितनी आज़ाद थी
मगर गलोब्लैजेशन और उपभोक्तावाद
ने तो आज
माँ की उस
संवेदनशील गाए को
असंवेदनशील सडकों पर
खुला घुमने के लिए
बिलकुल आज़ाद  छोड़ दिया है
क्योंकि आज़ादी की
यह नयी परिभाषा
सब पर लागू होती है न
क्योंकि यह गलोब्लैजेशन का
दौर जो है
सड़क नापती
दर दर भटकती
वह गाए
जो कभी माँ की चहेती
हुआ कराती थी
आज अपने खूंटे को

तलाश रही है
और तलाश रही है उस
माँ को
जिसको घुटने तक सूंघते ही
वह आनंद भरी
नींद में सो जाया करती थी
क्या तुम उस गाए को
खूंटे पर बाँधने का
कष्ट करके
अपनी माँ के ढूध से
उरिण नहीं होओगे !

कविता-अश्विनी रमेश /संपादित में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे

my creative ideas: Come and..Go-a poem

my creative ideas: Come and..Go-a poem

कविता में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे

Come and..Go-a poem

Come and..Go

When
you would be
weary of the world
Of its;
hates, agonies, miseries
you think and feel
has fallen upon you
like iron blows
when
you feel
twinkling stars,
flowing beautiful rivers
and
calm oceans
even can not
soothe you
You..then..
come to me
to heal your
every wound
with cures of
fellow feeling
of human touch
to the extent where
you would
tend to feel
to be at home
where the
sense of weariness
would have
changed to
blissfulness
and then…go.

कविता में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे

Isque wo aatish hai Galib jo lagai na lage aur bujhai na bujhe.

This is a poetic verse ‘Sher’ by reknowned Urdu poet Galib meaning thereby that love is such a fire which neither can be lit up by putting on efforts and when it is once lit up nor it can be extinguished
by putting on efforts.

कविता में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे

Follow word uncomfortable on twitter.

The word”follow” seems to be uncomfortable for genious people. why one is to follow the
other one when everyone has got his own level of conscience. Thus to follow anyone other
leaving yourself behind is nothing less than madness. Thus the evaluation of tweets should
be based on its content and should be commented as “Qualitative” “less Qualitative” and “Non-
Qualitative” Life is not a race in which some are to be left behind but life is a beautiful God
gift or the gift of nature and should be lived its own way to be controlled by one’s conscience.

कविता में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे

My Search from truth upto truth.

I have gone through all the prevailing philosophies in the world.All these search but one thing i.e.laws of
existence i.e. truth.Objective of human life being how to attain blissfulness or happiness in life. All of us
strive for attainment of bliss or happiness but really how many could attain that.Many people throughout
life are not able to know what to livc & why  to live. All search for true happiness but true happiness is not
there even for few moments and not to talk of whole life. Thus here only one question that emerges is “to know” and then what the “truth” itself. It is here that to know the truth is knowledge ttand knowledge
thus is said to be power. But how to attain that power i.e. how to attain knowledge is the real quest which the searcher of truth or knowledge must have.Then start searching from yourself what Iam & why Iam-this quest would inspire you to tread further on the path of searech for truth.There is no shortcuts to know truth or to be in knowledge.As pains are always associated with pleasure similarly
penance is always associated with truth. Truth can’t be known without penance…to be continued later on.

कविता में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे